Activities

संस्थान की गतिविधियाँ-

1. शिक्षण

  • प्राक्शास्त्री। (संस्कृत व्याकरण, हिन्दी, अंग्रेजी, राजनीति एवं संगणक)
  • शास्त्री। (साहित्य, व्याकरण, ज्योतिष, हिन्दी, अंग्रेजी, राजनीति एवं संगणक) • आचार्य (साहित्य, व्याकरण, फलित ज्योतिष एवं सिद्धान्त ज्योतिष शास्त्र)।
  • अनौपचारिक संस्कृत शिक्षण।
  • ज्योतिष एवं वास्तुशास्त्र परिचय पाठ्यक्रम शिक्षण।
  • मुक्तस्वाध्याय केन्द्र (दूरस्थशिक्षा का उपक्रम) के अन्तर्गत प्राक्शास्त्री, शास्त्री एवं आचार्य पाठ्यक्रमों का शिक्षण।

2. प्रशिक्षण

  • शिक्षाशास्त्री (B. Ed.)।
  • शिक्षाचार्य (M. Ed.) प्रस्तावित।
  • नाट्य एवं संगीत प्रशिक्षण।
  • संगणक प्रशिक्षण।

3. शोध

  • स्नातकोत्तर छात्रों के द्वारा विद्यावारिधि (Ph.D.) उपाधि हेतु साहित्य, व्याकरण, ज्योतिष, शिक्षा तथा संबद्ध अन्य शास्त्रों में अन्तःशास्त्रीय शोध कार्य।
  • उक्त विषयों में स्वतन्त्र शोध कार्य।

4. प्रकाशन एवं ग्रन्थविक्रय केन्द्र

  • राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान के साहित्य का विक्रय।
  • प्रतिवर्ष परिसरीय वार्षिक पत्रिका ‘राष्ट्री’ का प्रकाशन।
  • प्रतिवर्ष ‘भोजराज पञ्चांग’ का प्रकाशन। ISSN 2277-2030
  • शास्त्र मीमांसा का प्रकाशन (वार्षिक शोधपत्रिका)। ISSN 2231-2129

5. छात्र केन्द्रित प्रमुख गतिविधियाँ

  • छात्रवृत्ति/छात्रावास सुविधा।
  • विभागीय विशिष्ट व्याख्यानमालाएँ।
  • छात्र कल्याण कोष।
  • संविद् विकास परिषद्।
  • छात्र मार्गनिर्देशन प्रकोष्ठ द्वारा प्रतियोगिता परीक्षा के लिए विशिष्ट कक्षाएँ।

6. समाजोन्मुखी गतिविधियाँ

  • संस्कृत सप्ताहोत्सव।
  • शिक्षक अभिभावक संघ।
  • भारतीय ज्योतिष एवं वास्तुशास्त्र परिचय पाठ्यक्रम।
  • अनौपचारिक संस्कृत एवं संगीत शिक्षण।
  • नाट्याभिनय पर कार्यशाला एवं नाट्यशास्त्रीय व्याख्यानों का आयोजन।

7. राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली की सहभागिता से सञ्चालित प्रमुख गतिविधियाँ

  • राधाकृष्णन् स्मृति व्याख्यानमाला।
  • अखिलभारतीय संस्कृत नाट्योत्सव।
  • अधिराज्यीय शास्त्रीय प्रतिस्पर्धाएँ।
  • अन्तः परिसरीय संस्कृत नाट्यप्रतियोगिता (कौमुदी महोत्सव) में सहभागिता।
  • अन्तः परिसरीय युवमहोत्सव में सहभागिता।

8. परियोजना

  • बोली एवं उपबोली संस्कृतशब्दकोश परियोजना (बुन्देली एवं मालवी)।
  • ई-ग्रन्थालय अन्तर्जाल परियोजना।
  • ई-ग्रन्थम् अन्तर्जाल परियोजना।
  • नाट्यशास्त्र अनुसन्धान केन्द्र।
  • वैयाकरण सिद्धान्त रत्नाकर सम्पादन एवं प्रकाशन।

9. परिसरीय समितियाँ

भोपाल परिसर की सतत प्रभावशीलता एवं गतिशीलता के लिए अनेक समितियों का गठन किया गया है। उनसे प्राप्त प्रतिपुष्टि, परामर्श, निर्देश आदि के माध्यम से शिक्षा की गुणवत्ता को संवर्धित करने के लिए परिसर सतत प्रतिबद्ध है। इसके साथ भोपाल परिसर के वर्तमान छात्रों, भूतपूर्व छात्रों, अविभावकों और अध्यापकों के मध्य संवाद स्थापित करना, आजीविका के नये क्षेत्रों के विषय में सूचनाओं का आदान प्रदान करना, राज्यस्तरीय एवं राष्ट्रीय सम्मेलन, संगोष्ठी, कार्यशाला आदि का आयोजन करना, सामाजिक सहभागिता के क्षेत्र में योगदान देना आदि समिति के प्रमुख उद्देश्य स्वीकार किये गये हैं। विशेषरूप से समितियाँ विद्यार्थियों को मार्गनिर्देशन तथा अपेक्षित सूचनाओं के सम्प्रेषण पर कार्य करती हैं।

1.
आन्तरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ
9.
स्थानीय शोध समिति
2.
सतर्कता प्रकोष्ठ
10.
क्रीडा समिति
3.
महिला उत्पीडन निवारण प्रकोष्ठ
11.
सांस्कृतिक समिति
4.
रैगिंग निवारण प्रकोष्ठ
12.
छात्रवृत्ति समिति
5.
स्थानीय परामर्शदातृ समिति
13.
छात्रावास समिति
6.
समान अवसर प्रदायि समिति
14.
छात्र कल्याण परिषद्
7.
शैक्षिक समिति
15.
पूर्वछात्र परिषद्
8.
पुस्तकालय परामर्श समिति
16.
शिक्षक अविभावक संघ